"मुझे प्यार करने वाले, तू जहां है, मै वहां हूं" / नवल किशोर व्यास

Gadya Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
"मुझे प्यार करने वाले, तू जहां है, मै वहां हूं"


यश चोपड़ा की 1981 में आई फिल्म सिलसिला के गाने "येकहां आ गए हम/ यूं ही साथ चलते चलते" के बीच अंतरे मे लताकी आवाज में जावेद अख्तर की लिखी ये लाइन आती है।सोचता हूं कि ये लाइन गाने में नही आती तो क्या ज्यादा फर्कपड जाता। हिन्दी फिल्मों के गीत वैसे ही तुकबंदियो का ही मायाजाल है। ये ना होती तो इसकी बजाय कोई और लाइन सैट हो जाती। इस एक लाइन पर इतना जोर क्यो दे रहा हूं।  पर दोबातें, जो इस लाइन के प्रति हमेशा अनुराग जगाये रखती है उनमेंसे एक है कि ये बात और ये दिलकश संबोधन नायक की बजायनायिका से कहलवाना। प्यार तो पुरूष और स्त्री दोनो ही करतेहै। अलग भी दोनो ही होते है। दुख भी दोनो का साझा होता हैपर गाने में ये लाइन स्त्री क्यों कहती है। पुरूष भी तो कह सकताथा। पर नही। ये बात नायिका से ही कहलवाई गई। सोच समझकर या ऐसे ही पता नही पर शायद किसी फिल्मी गीत में ही नहीजीवन की हर ऐसी स्थिति में भी ये बात केवल और केवल स्त्री हीकह सकती है। दरअसल पुरूष अपने जीवन में ज्यादातर किसीस्त्री से सम्मोहित होकर प्यार करते है पर स्त्री ज्यादातर मामलों मेंअपने लिये आये प्यार का सम्मान करते हुए प्यार की संभावनाको जन्म देती है। ये संभावना पूरे प्यार में बदलती है या नही परस्त्रियां संभावनाओ को बरकरार रखने में दक्ष होती है। पुरूष केमन में अपने लिये उग आये प्रेम को ही ज्यादातर स्त्री अपना प्यारमानती है। ज्यादातर स्त्रियां आज भी प्यार करती नही, सामने सेआये प्यार को बस स्वीकार करती है। भारतीय विवाह इसलिये हीलंबे टिकते है। इसीलिये ही नायिका अपने अतीत के प्यार को"मुझे प्यार करने वाले" कहकर पुकारती है ना कि "तुझे प्यारकरने वाली"। ये संबोधन साधारण नही हैै। इसके मायने बेहदखास है जो जावेद अख्तर ने एक लाइन में तय किये है। और एकदूसरी बात जोे मुझे लाइन से इश्क जगाता है वो है स्त्री का अलगहोने के बाद ये कहना कि "तू जहां है, मै वहां हूं"। ये दिलासा हैअपने पूर्व प्रेमी के लिये। उसकी तसल्ली और आराम के लिये।स्त्री की ये दिलासा, दुआ और अपने लिये चिंता हर पुरूष केजीवन की धाती है। ज्वर के ताप में सिर पर पट्टी करते मुलायमहाथ सी। स्त्रियां उदार होती हैै। रिश्ते के हर संधिविच्छेद में पुरूषअपने हल्केपन की हर एक प्रतिक्रिया के साथ मुखर होता हैजबकि स्त्री अवसाद के अपने तमाम गहरे दुख को अपने में समेटेशांत नदी सी। स्त्री की मजबूती का अंदाजा तो इसी से ही लगायाजा सकता है कि उसकी हर प्रतिक्रिया पुरूष की खत्म हुई क्रियाके स्तर पर तो केवल शुरू होती है।

इसी गीत में जावेद अख्तर की लिखी एक नज्म मैं और मेरीतन्हाई भी ये कहां आ गए हम अमिताभ की आवाज में है।दरअसल जावेद ने अपनी एक दूसरी नज्म बंजारा की अंतिमतीन चार पंक्तियों को उठाकर फिल्म में इसका इस्तेमाल कियागया था। पंक्तियां थी- तुम होती तो ऐसा होता। तुम होती तो वैसाहोता। तुम इस बात पे हैरां होती। तुम उस बात पर कितनीहंसती। अपनी इस बंजारा नज्म के बारे मे जावेद का कहना थाकि ये एक शहर से दूसरे शहर भटक रहे किसी यात्री का दुःख हैजो अपने पिछले शहर मे छूट गए लम्हो को याद करता है। हमसब भी तो यात्री है। हो सकता है कि हम किसी एक जगह याशहर के यात्री नही है पर कही ना कही इस चल रहे समय केयात्री जरूर है।

ये कहां आ गए हम के पिक्चरराइजेशन में यश चौपड़ा ने बर्फ कीचादर, बरसती स्नो, समुंद्र का बीच, बारिश, नाव, बाग-बगीचें,पतझड, ट्यूलिप-गुलाब के फूल और ना जाने कितने मौसम औरवादियों के प्रतीको का इस्तेमाल किया। अमिताभ और रेखा एकदूसरे में खोये लगातार बदल रहे मौसम में मैरून स्वेटर पहने प्यारकी परिभाषा परदें पर गढ रहे थे। अमिताभ और रेखा प्रेम केगहरे प्रतीक बन कर गाने में उभरे है। ये शिखर था। प्रेम का भीऔर प्रतीको का भी। उतराव आना ही था और आया। प्रसिद्वनाटककार आर्नोल्ड वेस्कर ने एक नाटक लिखा था- फॉर सीजनस। नाटक में दिखाया गया कि हर बदलता मौसम आदमीकी भावनाओ और अहसासो को भी प्रभावित करता रहता है।घोषित रूप से शरद, बारिश्, बर्फ, लाल और गहरा मेहरून प्रेमके प्रतीक हो चले है और गर्मी और लू को हमने अधोषित रूप सेप्रेमविच्छेद का प्रतीक मान लिया है। बहरहाल सिलसिला भी प्रेम से ज्यादा विरह कथा रही। प्रेमियो केसंबंध टूटने पर फिर से मिलना भी अजब गजब स्थिति लाताहोगा। अचानक मिलना और एक दूसरे को फिर से अजनबी कीतरह देखना। कॉफी के लिए पूछना। एक दूसरे की आदतों काध्यान देना। बीता समय कैसे बीता। वो अभी भी जीवन में, याद मेंकही है या भूला दिये गए। नए रिश्ते में खुश है या नही वगैरहवगैरह। ये मनोविज्ञान कमाल है। इस पर अशोक वाजपेयी कीकविता भी क्या कम लाजवाब है।

"उस क्षण तक जीने देना मुझको/जब मैं और वह प्रियंवदा एक डूबते पोत के डेक पर/सहसा मिलें। दो पल तक न पहचान सकें एक दूसरे को, फिर मैं पूछूँ : "कहिए, आपका जीवन कैसा बीता?" "मेरा...आपका कैसा रहा?" "मेरा..." और पोत डूब जाए।"