लीडर / खलील जिब्रान / सुकेश साहनी

Gadya Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(अनुवाद :सुकेश साहनी)

पवित्र नगर की तलाश में जाते हुए मेरी मुलाकात एक दूसरे यात्री से हुई, मैंने उससे पूछ लिया, "पवित्र नगर पहुंचने का सही रास्ता यही है क्या?"

उसने कहा, "मेरे पीछे-पीछे चले आओ, चैबीस घंटों के भीतर तुम पवित्र नगर पहुँच जाओगे।"

मैं उसके पीछे चल पड़ा। हम दिन-रात चलते रहे, कई दिन बीत गए, पर हम पवित्र नगर नहीं पहुंचे।

तभी अप्रत्याशित बात हुई, वह मुझपर बरस पड़ा क्योंकि मैं जान गया था कि उसे पवित्र नगर के रास्ते के बारे में कोई जानकारी नहीं है।