कोढ़ में खाज : मधुशाला पर फतवा / अजित कुमार